ट्रेन में चचेरी बहन


Click to Download this video!

Discussion in 'Hindi Sex Stories' started by 007, Feb 26, 2017.

  1. 007

    007 Administrator Staff Member

    //brand-krujki.ru मेरा नाम रोहित है। मैं अपनी मौसी के यहां से गया जिले से मेरी छोटी बहन दीपिका के साथ लौट रहा था, जो सच्ची कहानी है। मैं सूरत में अपने परिवार के साथ रहता हूँ। मैं 19 साल का हूँ और मैं hindi font sex story में मेरी चचेरी बहन, दीपिका, के साथ कैसे ट्रेन की एक ही बर्थ पर क्या किया था, सुनाने जा रहा हूँ।

    एक दिन हमारी मौसी गया जिला के गाँव टेकरी से आई। मुझे और दीपिका को अपने साथ गाँव अपनी लड़की सरोज की माँगनी में ले जाने के लिए। हम दोनों भाई-बहन का टिकेट अपने साथ बनाकर लेने आई। मम्मी हमसे कही- "जब तुम्हारे मौसी इतनी दूर से खुद लेने आई है तो जाना तो पड़ेगा ही। लेकिन दीपिका की स्कूल भी खुली है इसलिए जाओ और माँगनी के बाद दूसरे दिन वापस आ जाना। वापसी का टिकेट अभी ही जाकर ले लो."


    मैं सूरत रेलवे स्टेशन गया, वहां किसी भी ट्रेन का दो दिन की वापसी टिकेट नहीं मिली। अंत में मैं झरखंड एक्सप्रेस का 98-99 वेटिंग का ही टिकेट लेकर आ गया की नहीं कन्फर्म होने पर टीटी को पैसे देकर ट्रेन पर ही सीट ले लेंगे। 29 अक्टोबर 2000 को मैं और दीपिका अपनी मौसी (माँ की बहन) की बेटी (सरोज) की माँगनी से वापस लौट रहे थे। गया जिले के टेकारी गाँव में हमारी मौसी रहती थी। मौसी ने सरोज की मगनी में दीपिका को लाल रंग का लंहगा-चोली खरीद कर दी थी, जिसे पहनकर दीपिका मेरे साथ देल्ही वापस लौट रही थी।

    टेकारी गाँव के चौक पर हमलोग गया रेलवे स्टेशन आने के लिए ट्रेकर का इंतेजार कर रहे थे। इतने में वहां एक कुतिया और उसके पीछे-पीछे एक कुत्ता दौड़ता हुआ आया। कुतिया हमलोगों से करीब 20 फुट की दूरी पर रुक गई। कुत्ता उसके पीछे आकर कुतिया की बुर चाटने लगा और फिर दोनों पैर कुतिया की कमर पर रखकर अपनी कमर दनादन चलाने लगा।

    जिसे मैं और दीपिका दोनों देखे। कुत्ता बहुत रफ़्तार से 8-10 धक्का घपा-घप लगाकर करवट लेकर घूम गया। दोनों एक दूसरे में फँस गये। ये दृश्य हम दोनों भाई-बहन देखे। इतने में गाँव के कुछ लड़के वहाँ दौड़ते हुए आए और कुत्ते-कुतिया पर पत्थर म रने लगे। कुत्ता अपनी तरफ खींच रहा था और कुतिया अपनी तरफ। लेकिन जुट छूटने का नाम ही नहीं ले रहा था।


    loading...

    मैंने दीपिका की तरफ देखा तो वो शर्मा रही थी। लेकिन ये दृश्य उसे भी अच्छा लग रहा था। हमसे नीचे नजर करके ये दृश्य बड़े गौर से देख रही थी। मेरा तो मूड खराब हो गया। अब मुझे दीपिका अपनी बहन नहीं बल्कि एक सेक्सी लड़की की तरह लग रही थी। अब मुझे दीपिका ही कुतिया नजर आने लगी। मेरा लण्ड पैंट में खड़ा हो गया। लेकिन इतने में एक ट्रेकर आई तो हम दोनों जीप में बैठ गये। जीप में एक ही सीट पर 5 लोग बैठे थे, जिससे दीपिका हमसे चिपकी हुई थी।

    मेरा ध्यान अब दीपिका की बुर पर ही जाने लगा। हमलोग स्टेशन पहुँचे। मैं अपना टिकेट कन्फर्मेशन के लिए टी॰सी॰ आफिस जाकर पता किया, लेकिन मेरा टिकेट कन्फर्म नहीं हुआ था। फिर मैंने सोचा किसी भी तरह एक सीट लेना तो पड़ेगा ही। टी॰सी॰ ने बताया कि आप ट्रेन पर ही टी॰टी॰ से मिल लीजिएगा शायद एक सीट मिल ही जाएगी।


    बहन के जवान मम्मे

    ट्रेन टाइम पर आ गई। दीपिका और मैं ट्रेन पर चढ़ गये। टी॰टी॰ से बहुत रिक्वेस्ट करने पर ₹200 में एक बर्थ देने के लिए राजी हो गया। टी॰टी॰ एक सिंगल सीट पर बैठा था, उसने कहा कि आप लोग इस सीट पर बैठ जाओ जब तक हम आते हैं कोई सीट देखकर।

    मैं और दीपिका सीट पर बैठ गये। रात के करीब 10:00 बज रहे थी खिड़की से काफी ठंडी हवाएं चल रही थीं। हमलोग शाल से बदन ढक कर बैठ गये। इतने में टी॰टी॰ आकर हमलोग को दूसरे बोगी में एक ऊपर की बर्थ दे दिया।

    मैंने 200 रूपये टी॰टी॰ को देकर एक टिकेट कन्फर्म करवाकर अपने बर्थ पर पहले दीपिका को ऊपर चढ़ाया। चढ़ाते समय मैंने दीपिका का चूतड़ कसके दबा दिया था। दीपिका मुश्कुराती हुई चढ़ी। फिर मैं भी ऊपर चढ़ा। सारे स्लीपर पर लोग सो रहे थे। हमारे स्लीपर के सामने स्लीपर पर एक 7 साल की लड़की सो रही थी, जिसकी मम्मी और दादी मिडिल और नीचे की बर्थ पर थे। सारी लाइट, पंखे बंद थे। सिर्फ़ नाइट बल्ब जल रहा था। ट्रेन अपनी गति में चल रही थी।

    दीपिका ऊपर बर्थ में जाकर लेट रही थी। मैं भी ऊपर बर्थ पर चढ़कर बैठ गया। दीपिका मुझसे कहने लगी- "लेटोगे नहीं?"

    मैंने कहा- "कहाँ लेटूं? जगह तो है नहीं."


    loading...

    इस पर वो करवट होकर लेट गई और मुझे बगल में लेटने कही। मैं भी उसी के बगल में लेट गया, और शाल ओढ़ लिया। जगह छोटी के कारण हम दोनों एक-दूसरे से चिपके हुए थे। दीपिका की चूची मेरे सीने से दबी हुई थी। मारा तो दीपिका की चूत पर पहले से ही ध्यान था। मैं दीपिका को और भी अपने से चिपका लिया, कहा कि और इधर आ जा नहीं तो नीचे गिरने का डर है।

    वो मुझसे और चिपक गई। दीपिका अपनी जाँघ मेरे जाँघ के ऊपर रख दी। उसके गाल मेरे गाल से सटे थे। मैं उसके गाल से अपना गाल रगड़ने लगा। मेरा लण्ड धीरे-धीरे खड़ा हो गया। मैं अपना एक हाथ दीपिका की कमर पर ले गया और और धीरे-धीरे उसका लहंगा ऊपर कमर तक खींच-खींचकर चढ़ाने लगा। दीपिका की सांसें भी तेज चलने लगी थीं।

    मैंने उसका लहंगा कमर के ऊपर कर दिया और उसके चूतड़ सहलाने लगा। मैं उसकी पैंटी पर से हाथ घुमाकर देखने लगा तो बुर के पास उसकी पैंटी गीली थी। उसकी बुर से चिप-चिपा लार निकला था, जो मेरी उंगलियों को चिपचिपा कर दिया। मैं पैंटी के अंदर से हाथ डालकर बुर के पास ले गया, तो उसकी बुर लार से भीगी हुई थी। मैं बुर को सहलाने लगा।


    loading...

    दीपिका अपने होंठ मेरे होंठ पर रख दी और मेरे होंठ को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी। मुझे एक बारगी पूरे बदन में जोश आ गया। मैं एक हाथ दीपिका की चूची पे डालकर उसके संतरे जैसी चूची को सहलाने लगा। उसकी चूची की निपल काफी छोटी थी, उसे मैं अपने मुँह में लेकर चूसने लगा। और पहले एक उंगली दीपिका की बुर में डुका दिया।

    बुर गीली होने के कारण आसानी से उंगली बुर में चली गई। फिर दो उंगली एक बार में ढुकाने लगा, इस पर दीपिका कसमसाने लगी। मैं एक हाथ से उसकी निपल की घुंडी मसल रहा था और एक हाथ से उसकी बुर से खिलवाड़ करने लगा। मैं किसी तरह धीरे-धीरे दोनों उंगली उसकी बुर में पूरा घुसेड़ दिया। और दोनों उंगली को चौड़ा करके उसकी बुर में चलाने लगा। दीपिका सिसकने लगी और अपनी हाथ मेरे पैंट की जिप के पास लाकर जिप खोलने लगी।

    मैंने भी जिप खोलने में उसकी मदद की और अपना लण्ड दीपिका के हाथ में दे दिया। दीपिका मेरे लण्ड के सुपाड़े को सहलाने लगी। उसको मेरा लण्ड सहलाने से बहुत मजा मिला। मैं उसकी बुर में इस बार तीन उंगली एक साथ डालने लगा। बुर से काफी लार गिरने लगी, जिससे मेरा हाथ और दीपिका की पैंटी पूरा भींग गई। लेकिन इस बार तीनों उंगली बुर में नहीं जा रही थी। मैं एक हाथ से बुर को चीर कर रखा और फिर तीनों उंगली एक साथ डाली।

    Pages: 1
Loading...

Share This Page


Online porn video at mobile phone


குஞ்சை ஆட்டி விட்டுதங்கை கூதி ஐட்டி ஒல் கதைகள்3gp বোনকে উলঙ্গ দেখে ভাই চুদতে লাগলBangla coti আজ মরে যাব अठारह साल की कली को फूल बना दिया hindi sex storyKamakadhaikal in Sunni oobum sexఅమ్మా నాన్న పుకూ ఆంటీwww.বাংলা ছোটদের sex mms videos.com/ഉമ്മയുടെ പൂറ്റിൽदादाजी आणि काकु सेक्स स्टोरीநான் கல்யாணம் ஆகி கன்னி கூதிवो रोती रही मैं चोदता रहाഅമ്മച്ചി xxxআমার বন্দিনি মা choti fileఅక్కని దెంగిన తమ్ముడు పార్ట్पुचीत लवडा शानदार xxxaka bra n panty lo karchesa sex stories of teluguఆడది రంకు చెయ్యలి అనుకుంటే EPISODE 1parimala otha kamakathaikalஎனது அக்கா ஆ குத்துடாबहन की फटी सलवार में से बुर देख कर गांड मारीmala ganbang jhala marathi sex kathaSirai tamil sex storiessex.makliy.xxxमामा के लौड़े ने मेरी कसी चुत फाड़ीఫ్యామిలీని మొత్తం నాకేసాను Part 1sangeeta sax mmsবাথরুমে ভিডিও করে চোদের টচিசூத்துல இறக்கினேன்வேலைக்காரியும் புண்டை அழகு கதைఆమ్మ ఆంటీ మదన్ - Telugu Sex Storiesஅபிநயா - என் நண்பனின் அழகு மனைவி - 4 | Nanpanin manaivitelugu lo professor bharya boothu kathaluমা ছেলের করাকরি দখতে চাইতোর মাকে তুই সারা জীবন চুদবিମାଇଂ କୁ ଗେହିଲିবুচ storycache:M70YTnqGKSsJ://brand-krujki.ru/forums/telugu-sex-stories-%E0%B0%A4%E0%B1%86%E0%B0%B2%E0%B1%81%E0%B0%97%E0%B1%81-%E0%B0%B8%E0%B1%86%E0%B0%95%E0%B1%8D%E0%B0%B8%E0%B1%8D-%E0%B0%95%E0%B0%A5%E0%B0%B2%E0%B1%81.12/ Babe Doodh ka Mazda storyಕನ್ನಡ ಲೈಂಗಿಕ ಕಥೆಗಳುചേച്ചിയുടെ ഭർത്താവ് മുല കൊതിअमृता भाभी की गांड मारी और बुर चुदाई की कहानी हिंदीफूफा की रखैलपुच्ची फुगलीপুটকির ফুটোতে ঢুকিয়ে dengudu entelo.comमाँ बोली बहुत मोटा लैंड है तुम्हाराகணவரின் உத்யோக உயர்வுக்குஅன்பளிப்பு: கணவரின் உத்தியோக உயர்வுக்குవక్షోజాలు చీకటం मजदूरन की चुदाईமாமி கமாக்கதைகள்বাবা পরকিয়া সেক গলপगोआ में करण के साथ सेक्स sex storiesmerichudasimaఅమ్మ కొడుకు రంకు మొగుడుகாமகதைमामा ची मुलगी चावटഇത്തയുടെ തടിച്ച കുണ്ടിtiche mothe ballमेरि गानद कि से चुदाईদুটোর জন্য পাগলஎன்.சுகம்.என்.மாமானர்chudaikahaniassamesemummychudgaiআপু আমাকে গোসল নুনু জোর করে লজ্জা।फूफा की रखैलभाभी ने लंड चोकला.comথলথলে চটিஅம்மா சூத்து ஓட்டைஅப்பா.மகள்.காம.கதைತುಲ್ಲಿನೊಳಗೆहिन्दी सेक्सी कहानी कामवाली को चोदाதம்பிக்காக புண்டை விரித்த அக்காबीवी की गोवा में चुदाई स्टोरी हिंदी मेंகுத்துடாपुच्चीत लंडजवखोर मारवाडी चालु आंटी सेक्स कथाఅమ్మ కోరిక కొడుకు మీద sex kathelu